स्वतंत्र समय, हरदा

विधानसभा चुनाव के लिए मतदान समाप्त होने के दो दिनों बाद रविवार को मानसरोवर होटल में प्रेस कांफ्रेंस कर टिमरनी विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी अभिजीत शाह ने ईवीएम मशीन बदलने की आशंका जताई है। साथ ही मतदान कराने के लिए गई पोलिंग पार्टियों के पीठासीन अधिकारियों पर प्रशासन और विधायक के दबाव में फार्म 17 सी देने में आनाकानी करने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही टिमरनी टीआई पर भाजपा के एजेंट के रूप में काम करने और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धमकाने का आरोप भी लगाया है।
अभिजीत शाह का कहना है कि मतदान खत्म होने के बाद संबंधित मतदान केंद्र के पीठासीन अधिकारी को अपने केंद्र पर बैठे राजनैतिक दलों के एजेंट को फार्म-17 सी दिया जाना अनिवार्य होता है। जिससे कि उन्हें इस बात का पता चल सके कि किस नंबर की ईवीएम मशीन से उसने मतदान केंद्र पर कितने मत डाले गए है। टिमरनी विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस के एजेंट को संबंधित मतदान केंद्र के पीठासीन अधिकारियों ने प्रशासन और विधायक के दवाब में फार्म-17 सी देने में आनाकानी की। उन्होंने कहा कि मतदान खत्म होने के दो दिनों बाद भी विधानसभा क्षेत्र के ग्राम आरया, ढेगा, बड़वानी के मतदान केंद्रों से उन्हें 17-सी फार्म नहीं मिल पाया। वहीं मतदान ख़त्म होने के बाद सांवरी, मुंडासेल, ढोलगांवकला और सोनपुरा के मतदान केंद्र से बमुश्किल दिया गया है।

उन्होंने कहा कि उनके द्वारा मतदान खत्म होने के बाद बीच रास्ते में बस को रोककर फार्म 17 सी लिया गया है। जिसमें आरया के पीठासीन अधिकारी ने एक साधारण पर्ची पर मतदान के सम्बंधित जानकारी कलेक्टर को फोन लगाने के बाद दी गई है।
जिसमें ईवीएम मशीन का नंबर नहीं लिखा गया है। उन्होंने आशंका जताई है कि फार्म 17-सी नहीं देने से यह लग रहा है। प्रशासन उनके क्षेत्र की ईवीएम मशीन को बदल सकता है। हालांकि उन्होंने यह भी दावा किया है कि उन्हें पिछले चुनाव में जिन गांवों से नुकसान हुआ था। इस बार उन्हें बढ़त मिलती दिखाई दे रही है। रिजल्ट पक्ष में आता दिखाई दे रहा है। इस दौरान जिला अध्यक्ष ओम पटेल और कांग्रेस नेता संजय जैन मौजूद रहे।